Click here for Myspace Layouts

फ़रवरी 21, 2012

पत्थर नहीं हूँ मैं


दायम (हमेशा) पड़ा हुआ तेरे दर पर नहीं हूँ मैं
ख़ाक ऐसी ज़िन्दगी पे कि पत्थर नहीं हूँ मैं,

क्यों गर्दिश-ए-मुदाम (बुरा वक़्त) से घबरा न जाये दिल ?
इन्सान हूँ, प्याला-ओ-साग़र (शराब का प्याला) नहीं हूँ मैं,

या रब! ज़माना मुझको मिटाता है किस लिये ?
लौह-ए-जहां (लोहे के वरक़) पे हर्फ़-ए-मुक़र्रर (हमेशा का लिखा) नहीं हूँ मैं,

हद चाहिये सज़ा में उक़ूबत (दर्द) के वास्ते
आख़िर गुनाहगार हूँ, काफ़िर नहीं हूँ मैं,

किस वास्ते अज़ीज़ (अपने) नहीं जानते मुझे ?
लाल-ओ-ज़मुर्रुदो--ज़र-ओ-गौहर (लाल,पन्ना,सोना और मोती) नहीं हूँ मैं,

रखते हो तुम क़दम मेरी आँखों से क्यों दरेग़ (दूर) ?
रुतबे में मेहर-ओ-माह सूरज और चाँद) से कमतर नहीं हूँ मैं,

करते हो मुझको मनअ़-ए-क़दम-बोस (पैर चूमने से मना) किस लिये ?
क्या आसमान के भी बराबर नहीं हूँ मैं ?

'ग़ालिब' वज़ीफ़ाख़्वार (पेंशन पाने वाले) हो, दो शाह (बादशाह) को दुआ
वो दिन गये कि कहते थे "नौकर नहीं हूँ मैं" ,

12 टिप्‍पणियां:

  1. ग़ालिब को पढ़ना... वाह! अलग ही अनुभव है हमेशा..
    सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया संजय जी, सुषमा जी और सदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ग़ालिब एक ही साँस में खुद को क्या क्या बना डालते हैं...कभी आकाश, कभी सूरज-चान्द और कभी खुद को बादशाह का नौकर...बेबसी भी ऐसी कि पत्त्थर तक बनने को तैयार हैं..तभी न कहते हैं ग़ालिब का है अंदाजे बयान और...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल अनीता जी तभी तो ग़ालिब को सदियों का शायर कहते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ग़ालिब जी को पढ़ना लगा,बेहतरीन सराहनीय प्रस्तुति,

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Galib ko padhna adbhut lagta hai ...shukriya is post ke liye Imran jee ... !!

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...