Click here for Myspace Layouts

अप्रैल 16, 2013

आतिश-ए-दोज़ख



कोई (कुछ) दिन गर ज़िन्दगानी और है
अपने जी (दिल) में हमने ठानी और है,

आतिश-ए-दोज़ख (दोज़ख की आग) में ये गर्मी कहाँ 
सोज़-ए-गम-ए-निहानी (अंदरूनी गम की जलन) और है,  

बारहा (कई बार) देखी हैं उनकी रंजिशें (दुश्मनी)
पर कुछ अब के सरगिरानी (नाराज़गी) और है,

दे के ख़त मुँह देखता है नामाबर (डाकिया)
कुछ तो पैगाम-ए-ज़बानी (मौखिक) और है,

काते-ए-अमार (उम्र काटते) हैं अक्सर नुज़ूम (तारे)
वो बला-ए-आसमानी (आसमानी तबाही) और है,

हो चुकीं हैं 'ग़ालिब' बलाएँ सब तमाम 
एक मर्ग-ए-नागहानी (अचानक मौत) और है,


15 टिप्‍पणियां:

  1. अर्थ देकर बहुत अच्छा किया आपने ...कई बार अर्थ नहीं जानने के कारण हम ग़ज़ल के आनंद से वंचित रह जाते हैं...आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह !!! मिर्जागालिब जी की बेहतरीन गजल,आभार,इमरान जी,
    RECENT POST : क्यूँ चुप हो कुछ बोलो श्वेता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह इमरान भाई. ग़ालिब का जवाब नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ... ग़ालिब के शेरों को समझने में भी कई बार अरसा स लग जाता है ...
    सुभान अल्ला ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. चिचा जिंदाबाद | काश मैं कभी उनसे रु-बा-रु मिल पता | ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयां और |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत लफ्ज और बयान...

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुक्रिया आप सभी लोगों का ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इमरान भाई, ग़ालिब की बेहतरीन गजले पढ़कर मज़ा आगया .कोष्टक में आपने हिंदी अर्थ लिखकर हम जैसों पर बढ़ी मेहरवानी की है ,आगे भी जारी रखें, आभार!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कालीपद जी बहुत बहुत शुक्रिया......कोशिश जरी रहेगी......स्नेह बनायें रखें।

      हटाएं
  10. बेनामीअप्रैल 29, 2013

    Greetings!
    If you're looking for an excellent way to convert your Blog visitors into revenue-generating customers, join the PayOffers.in Ad Network today!
    PayOffers India which is one of the fastest growing Indian Ad Network.
    Why to Join PayOffers India?
    * We Make Your Blog Into Money Making Machine.
    * Promote Campaigns With Multiple Size Banner Ads.
    * Top Paying and High Quality Campaigns/Offers...
    * Earn Daily & Get Paid Weekly Through check,Bank deposit.
    * 24/7, 365 Days Online Customer Support.
    Click here and join now the PayOffers India Ad Network for free:
    http://payoffers.co.in/join.php?pid=21454
    For any other queries please mail us at Neha@PayOffers.co.in
    With Regards
    Neha K
    Sr.Manager Business Development
    Neha@PayOffers.co.in
    www.payoffers.co.in
    Safe Unsubscribe, You are receiving this relationship message, if you don't want to receive in the future, Reply to Unsubscribe@PayOffers.co.in Unsubscribe

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेनामीमई 06, 2013

    I do not write a leave a response, however I looked
    through a few responses on this page "आतिश-ए-दोज़ख".
    I do have a couple of questions for you if you don't mind. Is it only me or does it look as if like some of these remarks appear like they are coming from brain dead visitors? :-P And, if you are writing at other sites, I'd like to follow you.
    Would you list of the complete urls of all your social community sites like your linkedin profile, Facebook page or twitter feed?


    Here is my blog post :: http://www.euroteeny.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेनामीमई 06, 2013

    I do not write a leave a response, however I looked through a
    few responses on this page "आतिश-ए-दोज़ख".
    I do have a couple of questions for you if you don't mind. Is it only me or does it look as if like some of these remarks appear like they are coming from brain dead visitors? :-P And, if you are writing at other sites, I'd like to follow you.

    Would you list of the complete urls of all your social community
    sites like your linkedin profile, Facebook page or twitter feed?


    Check out my weblog - http://www.euroteeny.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस तरह आप ग़ालिब साहब को सच्ची श्रद्धांजलि दे रहे है...तारीफ़ ऐ काबिल...👍

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बहुत शुक्रिया इमरान भाई।मैं इस ग़ज़ल का अर्थ ढूंढ रहा था।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...