Click here for Myspace Layouts

जुलाई 19, 2012

उम्मीद



कोई उम्मीद बर (पूरी) नहीं आती 
कोई सूरत नज़र नहीं आती, 

मौत का एक दिन मु'अय्यन (मुक़र्रर) है 
नींद क्यूँ फिर रात भर नहीं आती, 

आगे (पहले) आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी 
अब किसी बात पर नहीं आती,

जानता हूँ सवाब-ए-ता'अत-ओ-ज़हद (इबादत की ताक़त)
पर तबीयत इधर नहीं आती,

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ 
वर्ना क्या बात कर नहीं आती, 

क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं 
मेरी आवाज़ गर नहीं आती, 

दाग़-ए-दिल नज़र नहीं आता 
बू भी ए ! चारागर (हकीम) नहीं आती,

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी 
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती,

मरते हैं आरज़ू में मरने की 
मौत आती है पर नहीं आती,

काबा किस मुँह से जाओगे 'ग़ालिब' 
शर्म तुमको मगर नहीं आती, 

18 टिप्‍पणियां:

  1. है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ
    वर्ना क्या बात कर नहीं आती,

    क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं
    मेरी आवाज़ गर नहीं आती,
    बहुत खूब ... लाजवाब प्रस्‍तुति ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया आप सभी लोगों का ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम वहाँ हैं जहाँ से हमको भी
    कुछ हमारी भी खबर नहीं आती

    वाह वाह ! सचमुच ग़ालिब का जवाब नहीं..लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  5. है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ
    वर्ना क्या बात कर नहीं आती,

    बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
    बहुत सुंदर गजल ,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया अनीता जी, धीरेन्द्र जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हम वहां हैं जहां से हमको भी
    कुछ हमारी ख़बर नहीं आती।
    ये एक सूफ़ियाना ग़ज़ल है। आभार इस प्रस्तुति के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. galib ka koi jawab nahi...bahut sunder prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 08/08/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' भूल-भुलैया देखी है ''

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमारे ब्लॉग की पोस्ट यहाँ शामिल करने का शुक्रिया ।

      हटाएं
  10. खूबसूरत गज़ल .... आभार इसे पढ़वाने का

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरी पसंदीदा गज़लों में से एक ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छी रचना सदा ही बहुत सुकून देती है मन को |आभार इस गजल को पढ़वाने के लिए |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  13. गालिब की एक बहुत ही खूबसूरत गजल...
    सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप सभी लोगों का बहुत बहुत शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी प्रस्तुति! मेरे नए पोस्ट "छाते का सफरनामा" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...